Hindi Gay sex kahani – मेरा होस्टल रूम मेट

Click to this video!

प्रेषक : प्रेम सिंह सिसोदिया

यह मेरी पहली कहानी है जो वास्तविक है, बड़ी हिम्मत करके मैं यह कहानी लिख रहा हूं। मेरे दोस्त चन्दू ने इस कहानी को लिखने में मेरी मदद की है।

यह घटना छः माह पहले की है। मैंने अन्तर्वासना की कहानियाँ अभी जब मेरे पास कम्प्यूटर आया तब पढ़ना आरम्भ की थी। अब हमें पुस्तक से अच्छी और अधिक वासनायुक्त कहानियाँ पढ़ने को मिल जाती हैं और हमारे अब पुस्तकों के किराये के पैसे भी बच जाते हैं।

मेरा एडमिशन बेंगलोर में हो चुका था और मैंने होस्टल में दाखिला ले लिया था। मेरे साथ एक और लड़का था, उसका नाम चन्द्र प्रकाश था। सभी उसे चन्दू कहते थे। यूं तो हम दोनों ही दुबले पतले हैं, और लम्बाई भी साधारण सी ही है। मुझे उसके साथ रहते हुये लगभग दो माह हो चुके थे। उसे फ़ुर्सत में अश्लील पुस्तकें पढ़ने का शौक था। वो मार्केट से किताबें किराये पर ले आता था और बड़े चाव से पढ़ता था।

एक बार मैंने भी उसकी अनुपस्थिति में वो किताब उसके तकिये के नीचे से निकाल कर पढ़ी। उसको पढ़ते ही मेरा भी लन्ड खड़ा हो गया। मुझे उसकी खुली भाषा बहुत पसन्द आई और कहानी को अन्त तक पढ़ डाला। अब मेरे खड़े लन्ड को शान्त करना मुश्किल हो गया था। मैंने अन्त में अपना लण्ड बाहर निकाला और हाथ से मुठ मारने लगा। जब वीर्य लन्ड से बाहर निकल आया तो मुझे चैन मिला। पर मुझे उस पुस्तक को पढ़ने में बड़ा मजा आया। धीरे धीरे मुझे भी उन पुस्तकों को पढ़ने में मजा आने लगा। मेरा मन पढ़ाई से उचटने लगा। रात को जब तब मैं अब मुठ मारने लगा था।

चन्दू को भी अब मेरी हरकतें मालूम होने लग गई थी। उसे शायद मालूम पड़ गया था कि मैं उसकी अश्लील पुस्तकें छुप कर पढ़ लेता हूँ। उसने एक दिन उसने वो किताब छुपा ली। मुझे ढूंढने पर भी जब वो पुस्तक नहीं मिली तो मैंने हार कर चन्दू से कह ही दिया,”चन्दू, वो जो तू किराये पर पुस्तक लाता है, क्या अब नहीं ला रहा है?”

“देख प्रेम, पुस्तक तो मैं अपने पैसे दे कर लाता हूँ, तू अगर आधा पैसा दे तो तुझे भी दे दूंगा।”

मैंने उसे आधा पैसा भरने के लिये हां कर दी। अब तो मैं उसकी उपस्थिति में भी पुस्तक पढ़ सकता था।

इन सबके चलते एक दिन हम दोनों ही खुल गये और फिर चला एक दूसरे की गान्ड मारने का सिलसिला।

यह कैसे आरम्भ हुआ…

मैं दिन को लंच के बाद कॉलेज नहीं गया, आराम करने लगा। चन्दू का लंच के बाद एक पीरियड लगता था। मैं कमरे में अश्लील पुस्तक पढ़ रहा था। फिर हमेशा की तरह मैं खड़े हो कर मुठ मारने की तैयारी में था। मैंने अपना पजामा उतार लिया था और चड्डी भी उतार कर अपने कड़क लन्ड को हिला रहा था। तभी चन्दू आ गया… और मुझे लन्ड हिलाते हुये देखने लगा।

“ये क्या कर रहा है रे…” उसने मुझे झिड़का।

मैं बुरी तरह चौंक गया। और पास में पड़ा तौलिया उठा कर लपेट लिया।

“अरे यार वो ऐसे ही… ” मैं हड़बड़ा गया था।

“ऐसे क्या मजा आता होगा … रुक जा, मुझे भी किताब पढ़ने दे … साथ मजा करेंगे !” चन्दू ने बड़ी आशा से मुझे कहा।

मैं कुछ समझा नहीं था।

“साथ कैसे… क्या साथ मुठ मारेंगे…?”

“हां यार, उसमे मजा आयेगा…” मुझे भी लगा कि शायद ये ठीक कह रहा है। वो अपना मुठ मारेगा और मैं अपना मारूंगा। कुछ ही देर में उसने किताब पढ़ ली और उसने बड़ी बेशर्मी से अपनी कॉलेज की ड्रेस उतारी और नंगा हो गया। उसका लण्ड भी तन्ना रहा था।

उसने कहा,”प्रेम, इधर आ और इसे छू कर देख…!” मुझे ऐसा करते हुये हिचकिचाहट हो रही थी। पर मैंने उसके लण्ड को हल्के हाथों से पकड़ कर छू लिया।

“ऐसे नहीं रे … जरा कस कर पकड़… हां ऐसे… अब आगे पीछे कर !” उसने आनन्द से मुझे पकड़ लिया। मुझे दूसरे का लण्ड पकड़ते हुये कुछ अच्छा नहीं लग रहा था। कड़ा सा, नरम चमड़ी, चमकता हुआ लाल सुपाड़ा… फिर भी मैंने उसके लण्ड पर अपना हाथ आगे पीछे चलाना आरम्भ कर दिया। उसका हाथ मेरी कमर पर कस गया। उसके मुँह से आह निकलने लगी। उसने अब मेरी कमर से तौलिया खींच कर उतार दिया।

“अरे… ये क्या कर रहा है… ?” मैंने हड़बड़ाते हुये कहा।

“तेरा लण्ड की मैं मुठ मार देता हूँ… देख बेचारा कैसा हो रहा है…!” और उसने मेरा लण्ड थाम लिया। किसी दूसरे का हाथ लन्ड पर लगते ही मुझे एक सुहानी सी अनुभूति हुई। लण्ड हाथ का स्पर्श पाते ही बेचारा लन्ड कड़क उठा। उसका हाथ मेरे लन्ड पर कस गया और अब उसने हल्के से हाथ से लन्ड पर ऊपर नीचे करके मुठ मारा। मुझे बहुत ही आनन्द आने लगा।

“यार चन्दू, मैं मुठ तो रोज़ ही मारता हूँ… पर तेरे हाथ में बहुत मजा है… और कर यार… आह …” हम दोनों अब एक दूसरे का हल्के हाथों से मुठ मारने लगे। मेरे अन्दर एक तूफ़ान सा उठने लगा… सारी दुनिया रंगीन लगने लगी। चन्दू मुठ बड़ी खूबसूरती से मार रहा था। उसके हाथ में जैसे जादू था। उसकी अंगुलियां कहीं सुपाड़े को हौले से मसलती और कभी डन्डे को बेरहमी से मरोड़ती और कस कर मुठ्ठी में दबा कर दम मारती… कुछ ही देर में मेरा वीर्य छूट गया। मैं उससे लिपट गया और ना जाने कहां कहां चूमने लगा। मेरे झड़ते ही मुझे होश आया कि मैंने तो जाने कब चन्दू लण्ड छोड़ दिया था और अपने आनन्द में डूब गया था। अब मैं उसका लन्ड पकड़ कर मुठ मारने लगा। वो अपने बिस्तर पर लेट गया और अपने शरीर को आनन्द से उछालने लगा। उसका लण्ड और सुपाड़े को मैं सन्तुलित तरीके से या कहिये चन्दू के तरीके से मुठ मार रहा था। उसकी हालत देख कर मुझे लग रहा था कि शायद मुझे भी ऐसा ही मजा आया होगा… अन्जाने में मैं भी ऐसा ही तड़पा हूंगा। कुछ ही देर में उसके लण्ड ने पिचकारी निकाल मारी। उसका वीर्य मेरे हाथो में लिपट गया। मैंने उसका लण्ड धीरे धीरे मल कर उसमे से सारा वीर्य निकाल दिया

एक दूसरे का मुठ मारना रोज़ का खेल हो गया।

एक दिन मुझे चन्दू ने नया खेल सिखाया। उसने नंगे होने के बाद मुझे बिस्तर पर सुला दिया और वो मेरे ऊपर उल्टी पोजीशन में लेट गया। उसने मेरा खड़ा लण्ड अपने मुंह में भर लिया। उसके लण्ड चूसने से मुझे बड़ा मजा आया… मैंने भी उसके लण्ड के अपने मुँह में भर लिया। मैंने भी उसे चूसना शुरू कर दिया। उसकी टांगे मेरी गर्दन के आस पास लिपट गई। मेरा लन्ड तो उसके चूसने से फ़ूलने लगा और मैं आनन्द से भर गया। मेरे चूतड़ नीचे से हिल हिल कर प्रति उत्तर देने लगे थे। उसने भी अपने चूतड़ों को हौले हौले से मेरे मुख में चोदने जैसा हिलाने लगा। मैंने भी उसका लन्ड जोर से होंठ को भींच कर चूसना आरम्भ कर दिया। ये मस्त तरीका मुझे बहुत ही पसन्द आया। मेरा लन्ड भी नीचे फूल कर उसके मुख का भरपूर मजा ले रहा था। वह अपना हाथ से मेरा लण्ड का मुठ भी मार रहा था और मेरे सुपाड़े के रिन्ग को कस कर चूस रहा था। कुछ पलों में मेरा लण्ड मस्ती में हिल हिल कर मस्त हो उठा और ढेर सारा वीर्य उसके मुँह में ही उगल दिया। उसने वीर्य को नीचे जमीन पर थूक दिया और फिर से चूस कर मेरा पूरा वीर्य निकाल कर साईड में नीचे थूक दिया।

अब उसने अपनी कोहनियों पर अपनी पोजीशन ले ली । अब उसका पूरा ध्यान स्वयं के लण्ड पर था जिसे वो मस्ती से हौले हौले मेरे मुख को चोद रहा था। तभी उसने अपने लण्ड का पूरा जोर लगा कर लण्ड मेरे हलक तक उतार दिया और अपना वीर्य छोड़ दिया। उसका सारा वीर्य मेरे गले से सीधे उतर गया और मैं खांस उठा। उसने अपना लन्ड थोड़ा ऊपर करके मुँह में ही रहने दिया और उसका सारा वीर्य मेरे मुँह में भरने लगा। स्वाद रहित चिकना सा वीर्य, पहली बार किसी के वीर्य का स्वाद लिया था। उसके पांवों के बीच मेरा मुख जकड़ा हुआ था, उसका रस गले से नीचे उतर गया और अब उसने मुझे ढीला छोड़ा और मेरे ऊपर से हट गया। इस प्रकार के मैथुन में मुझे आर भी आनन्द आया।

उन्हीं दिनों चन्दू का कम्प्यूटर भी आ गया। हमारा इस तरह का दौर लगभग रोज ही चलता था। हम दोनों सन्तुष्ट हो कर फिर से पढ़ाई में लग जाते थे।

एक बार रात को चन्दू बड़े गौर से एक गे की सीडी देख रहा था। एक लड़का दूसरे लड़के की गान्ड मार रहा था। मैंने भी उस सीन को बहुत बार लगा कर देखा और फिर हम एक दूसरे को प्रश्न वाचक नजरों से देखने लगे।

“ये तो मुश्किल काम है ना… गान्ड का छेद तो इतना सा होता है… कैसे घुस जाता है यार… कहानियों में भी गान्ड की मारा मारी बहुत होती है।” मैंने हैरानी से कहा।

“तू कहे तो एक बार कोशिश करें क्या … अपने पास सोलिड लन्ड तो है ही ना…इस फ़िल्म को देख जब इस सीन में लन्ड गान्ड में घुसा है, ये सच तो लगता है… ये कुछ चिकनाई भी तो लगाते हैं ना…!”

उस सीन को देख कर लन्ड तो दोनों का ही खड़ा था… दोनों ने कपड़े उतार लिये… मैंने ही पहल की।

“देख मैं झुक जाता हूँ… तू अपना लन्ड मेरी गाण्ड में घुसाने की कोशिश कर…”

चन्दू ने यह देखा और तेल की शीशी देख कर कहा, “तेल लगा लेते हैं…!”

उसने तेल की शीशी से तेल मेरी गान्ड में लगा दिया और अपना तना हुआ लण्ड मेरी गान्ड से चिपका दिया। मेरी गान्ड का छेद डर के मारे और कस गया।

“अरे… गान्ड को ढीली छोड़ ना…” मैंने हिम्मत करके छेद को ढीला छोड़ दिया। उसने थोड़ा जोर लगाया और अन्ततः उसका सुपाड़ा अन्दर चला ही गया। मुझे बड़ा अजीब सा लगने लगा… ये मेरी गाण्ड में मोटा सा ये क्या फ़ंस गया… उसका मोटा सा लन्ड मुझे उसकी मोटाई का अहसास दिला रहा था। उसने जोश में आकर लण्ड को जोर से अन्दर की ओर मारा… उसके मुख से आह निकल पड़ी और उसने तुरन्त अपना लन्ड बाहर निकाल लिया। मुझे भी एक बार गान्ड में दर्द हुआ पर उसके लन्ड निकालते ही आराम हो गया।

“मुझसे नहीं होता है यार …” चन्दू ने अपना लण्ड सम्भालते हुये कहा।

“क्या हो गया… साले तेरे में दम नहीं है गान्ड मारने का, चल तू घोड़ी बन, मैं चोदता हूँ तेरी मस्त गान्ड को… चल घोड़ी बन जा…” मैंने भी उसे घोड़ी बना दिया… और तेल उसकी गान्ड में भर दिया। लण्ड की चमड़ी ऊपर खींच कर मैंने सुपाड़ा बाहर निकाल लिया। उसकी गान्ड ने अंगुली कर के देखा, मुझे तो उसकी गान्ड मस्त लगी। मैंने अंगुली घुमाते हुये उसके छेद को खोला और सुपाड़ा उस पर रख दिया। दबाव डालते ही मेरा लन्ड छेद में घुस गया। चन्दू थोड़ा सा बैचेन हो उठा … मैंने जोर लगा कर लण्ड को धक्का दिया… मुझे अचानक ही तेज जलन हुई, जैसे आग लग गई हो… मैंने लण्ड जल्दी से बाहर निकाल लिया। देखा तो मेरे लण्ड की झिल्ली फ़ट गई थी और कुछ खून की बून्दें उस पर उभर आई थी। कमोबेश चन्दू का भी यही हाल था। हम समझ गये थे कि ये तो लण्ड के कुंवारेपन की निशानी थी, जो अब फ़ट कर जवानी की याद दिला रही थी। हमने अपने लण्ड को साफ़ किया और असमन्जस की स्थिति में सो गये।

अगले दिन भी हम दोनों के लण्ड में दर्द था, सो बस रात को हम कम्प्यूटर पर यूं ही सर्च कर रहे थे। अचानक एक जगह सेक्स कहानियों के बारे लिखा हुआ नजर आया, यह अन्तर्वासना साईट थी। साईट के खुलने पर हमें बहुत सी या कहिये कि अनगिनत कहानियाँ वहां पर मिली। उन कहानियों के पढ़ने पर हमें यह मालूम हुआ कि हमारी स्किन जो फ़टी थी वो तो एक दो दिन में ठीक हो जाती है। गान्ड मारने के बारे में भी पढ़ा और हम दोनों उत्साहित हो उठे। इन रस भरी कहानियों का भरपूर संग्रह मिल जाने से हमने मार्केट से अश्लील पुस्तकें लाना बन्द कर दिया।

अगले दिन हम दोनों ने सच में महसूस किया कि हमारे लण्ड अब ठीक हो चुके है तब हमने कहानियों के अनुसार ही किया। पहले मैंने ट्राई की, मैंने अंगुलिया घुमा कर गाण्ड का छेद चौड़ा किया। मैं तेल लगाता गया और अंगुली घुमाता गया, फिर अपना सुपाड़ा छेद पर रख कर अन्दर धकेला तो आराम से घुस गया। पर हां, गान्ड कसी हुई थी। मैंने डरते डरते लण्ड और अन्दर घुसेड़ा… लण्ड में तो दर्द नहीं हुआ पर चन्दू के मुख से कराह निकल गई। पर मुझे तो लण्ड में मीठी सी वासनायुक्त कसक भरने लगी। इस मीठी सी सुरसुरी का आनद लेने के लिये मैंने अपना लण्ड धक्का दे कर पूरा घुसेड़ दिया।

उसे शायद दर्द हुआ… पर मैं आनन्द के मारे झूम उठा था और उसकी गाण्ड में लन्ड अन्दर बाहर करना आरम्भ कर दिया। अब मुझे मालूम चल रहा था कि लड़कियों की चूत मारने में भी ऐसा ही मजा आता होगा। उसकी तंग़ गाण्ड मारने में मुझे एक अनोखा ही आनन्द आ रहा था। लन्ड खूब रगड़ रगड़ चल रहा था। मुझे लगा कि अब मैं झड़ने वाला हूँ तो पूरा जोर लगा कर लन्ड को उसकी गान्ड में मारने लगा… फिर मेरे लण्ड से रस निकल पड़ा और उसकी गाण्ड में भरने लगा। मैंने लण्ड खींच कर बाहर निकाल लिया और बाकी का वीर्य बाहर निकाल दिया। उसकी गान्ड का छेद लण्ड निकालने पर खुला रह गया था और कुछ ही पलों में अब बन्द हो गया था। चन्दू के चेहरे पर पसीना था।

कुछ ही देर में उसने मुझे घोड़ी बना दिया और उसने भी मेरे साथ वही किया। वो मेरी गान्ड का छेद अंगुली डाल कर खींच खींच कर चौड़ा करने लगा। मुझे ऐसा करने से छेद में जलन तो हुई पर अधिक नहीं… बल्कि उसकी अंगुली गान्ड में मीठा सा मजा दे रही थी। कुछ ही देर में उसका सोलिड लन्ड मेरी गान्ड में घुस पड़ा। उसने मेरी गाण्ड में लण्ड धीरे से घुसाया और बड़े प्यार से मेरी गाण्ड मारने लगा। मुझे दर्द तो हो रहा था पर अधिक नहीं। उसका लन्ड मुझे गान्ड में चलता हुआ बहुत मजा दे रहा था। पर जोश में उसके तेज झटके दर्द दे जाते थे…। कुछ ही देर में वो भी झड़ गया। पर उसने अपना वीर्य पूरा ही गान्ड में भर दिया। उसका लन्ड गान्ड में ही सिकुड़ गया था और चिकने वीर्य के साथ सुरसुराता हुआ अपने आप बाहर आ गया।

हम दोनों ही बहुत खुश थे कि अब हमें लडकियों की कोई आवश्यकता नहीं थी… हमें अपना वीर्य निकालने के लिये एक छेद मिल गया था। एक दूसरे के चूतड़ों की नरम गद्दी का एक मधुर सा मजा लण्ड के आस पास गान्ड मारने पर आता था। हम दोनों धीरे धीरे गान्ड मारने और मराने के अभ्यस्त हो चुके थे … अब इस कार्य में बहुत ही मजा आने लगा था। हम अब सप्ताह में दो बार पूरी तैयारी के साथ गान्ड मारते थे। हम अब व्हिस्की लाते, साथ में चिकन और नमकीन लाते और ब्लू फ़िल्म लगा कर रात को कम्प्यूटर पर आराम से देखते और फिर उत्तेजित हो कर आपस में गाण्ड मारते और मराने लगे थे।

 

Comments


Online porn video at mobile phone


indain.man.naked.sexगे बाप बेटे की सेक्स कहानी हिंदीxxxvidio of indian lungi gays www.compornvideo desi gaybearboys ru nudeलडके को लडका चोद रहा है gayindian gay sex storied with deliveryboyFriend big land gey boy vidiyo तुमब्लरtamil uncles full nudedesi gay blowjob videodesi gay video of hot and smooth hunk jerking off nakedcricketers showing cock nudewww.nude group desi boys lund comdesinaked menindian cocksex gay seindian hot fuck boys hd picsxxx indian gay gaand phatne sex videoलुली.पे.होट फेरेgay only boy xkahani in hindidesi dickdesi aunkals penis imagebest indian pussy with boy's cockIndian boys sex land photos hd sexboysdesi.comdesi gay videoहिन्दी गे ईमेजnude boy Indianmysore hot village bhabhi first 8217sex gays boys fucking indiansgay sex desi bodydesi gay cumdesinaked mensexgay boys image gandDesi nude gaysindian naked boysDesi pahlwan cocksexdasioldindian smart cockoral sex tamil storyindian gay nude picgay sextelugutamil man sexTamil gay sexindian boy sexdesi gay nudeindian g a y s e xindian gay to men sex imagestelugugaysxytamil boys sex nudegay antarvasnagey xxx story HindiIndian old gay nudeindian macho man cockindian gay fuckersdesi mard antarvasna gay sex story.comdesi Bollywood lund gay sex nudehd fucking photos of indian gaydesi best gay ass fucking in nudeindian big cock pornMarathigaysexstoretDesi gay uncles Nudenauker male nudesinhala boys xxx picturesdesi gay fucking naked picnaked indian menindian gay naked videooldindiandaddygay xvedioDesi Gay SexPunjabi jat big dicks pics chota ladka gay sex desiIndiaboyboysexcrossdress laundiya hot mard nudeman गांड गेdesi gay chachu fucksex indian uncle desi gay imageindian bear pornhot erotic romancing nude gay Indians videodesi macho gaysex fuckersindian nude menwww देसी contration sex video comindian boy penis picindian lungi all nude boysindiangaysexkhet main chuda nude gayall heros sex naked lund new photogay nude indian modelsIndian model man nakednaked desi menmama ne choda gay sex storybig cock indian boyspanjabi gaysex pictures desi gay men nude cockखेत में किया गे सेक्स indian gay xxxindian gey ladka penti bira pehne secxy videosex story fuckhot indian gay sex HD